Sunday , 25 February 2018
Breaking News

पाकिस्तान है या ‘बैनिस्तान’ वैलेंटाइन-डे भी बैन कर दिया…


जहां एक तरफ वैलेंटाइन के मौके पर पूरी दुनिया के लोग अपने प्यार का इजहार कर रहे होंगे वहीं एक देश ऐसा भी होगा जहां के लोग वैलेंटाइन डे नहीं मना पाएंगे। सही पकड़े हैं, हम पाकिस्तान की ही बात कर रहे हैं जहां पर वैलेंटाइन डे को बैन कर दिया गया है। और ये फरमान भी सुनाया है पाकिस्तान कि इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने… इतना ही नहीं कोर्ट ने ये भी आदेश दिए हैं कि कोई भी प्रिंट या इलेक्ट्रोनिक मीडिया वैलेंटाइन डे का प्रचार नहीं करेगा। चौंकिये मत ये चौंकने की खबर थोड़ी न है पाकिस्तान का तो ‘बैन’ शब्द से पुराना रिश्ता रहा है, समझे कि नहीं… समझ गए तो अच्छा है.. मैं भी यू ट्यूब और सोशल मीडिया की ही बात करने वाला था… अरे भाई ये क्या बात हुई की सबकुछ बैन कर दो पाकिस्तान है या ‘बैनिस्तान’ लोग खुल कर प्यार भी नहीं कर सकते क्या ?…

Valentine-Day-celebrationsIndiaTv071aabPakvelentineF

जस्टिस शौकत अजीज ने कहा कि फेडरल मिनिस्ट्री ऑफ इन्फोर्मेशन और पाकिस्तान इलेक्ट्रोनिक मीडिया रेगुलेटरी ऑथोरिटी को निर्देश दिए गए हैं कि उसे प्रचार के हर माध्यम पर नजर रखनी होगा और उन्हें वैलेंटाइन डे को करने को लेकर मीडिया को सूचित भी करना होगा। जस्टिस ने यह फैसला एक आम नागरिक अब्दुल वाहीद द्वारा दायर की गई उस याचिका पर सुनाया जिसमें कहा गया था कि प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और सोशल मीडिया पर वैलेंटाइन का बहुत प्रचार किया जा रहा है जो कि हमारी इस्लामिक शिक्षा के खिलाफ है और इसे तुरंत बैन कर दिया जाना चाहिए। इस याचिका में यह भी कहा गया कि वैलेंटाइन डे को पब्लिक पलेस में मनाने से बैन किया जाना चाहिए।

_80918165_138873085

आपको बता दें कि हर साल इस प्यार के त्योहार को लेकर पाकिस्तान के कुछ लोग इसका समर्थन करते हैं तो कई लोग इसका विरोध करते हैं। जहां एक तरफ पाकिस्तान के कुछ राज्यों के रेस्टोरेंट औऱ बैकरी के लोग इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ एंटी-वैलेंटाइन कैंपेन चलाने वाले लोगों का कहना है कि देश में वैलेंटाइन डे के लिए कोई जगह नहीं है।

_88237818_gettyimages-138992627

आपको बता दें कि पिछले साल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के अध्यक्ष ममनून हुसैन ने वैलेंटाइन डे को बैन करने की मांग की थी। उनका कहना था कि यह मुस्लिम परंपरा का हिस्सा नहीं है। उनका कहना था कि वैलेंटाइन का हमारी सभ्यता के साथ कोई मेल नहीं है। यह सिर्फ पश्चिमी देशों का त्योहार है।

About Kumar Vikash Gaurav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>