Friday , 23 February 2018
Breaking News

आखिर क्यों पर्रिकर को छोड़ना पड़ा था रक्षा मंत्री का पद ?


गोवा के मौजूदा सीएम मनोहर पर्रिकर को पहले तो गोवा के मुख्यमंत्री पद से उठाकर रक्षा मंत्री बनाया गया और फिर अचानक ही रक्षा मंत्री से हटा कर उन्हें फिर से गोवा के तख्त पर बैठा दिया गया। कहां गोवा जैसे छोटे से राज्य का मुख्यमंत्री होना और कहां रक्षा मामलों में पूरे देश की अगुवाई करना। अंतर तो है, वो भी जमीन आसमान का… आखिर क्यों कोई अर्श से उतरकर सीधा फर्श पर आना चाहेगा।  कुछ तो ऐसे कारण रहे होंगे जिनके चलते मनोहर पर्रिकर को गोवा से दिल्ली और फिर दिल्ली से गोवा का सफर करना पड़ा।

manohar-parrikar-647_120916101837

दिल में छिपा दर्द आखिरकार पर्रिकर की जुबां पर छलक ही आया। उन्होंने स्वीकार किया कि कश्मीर जैसे कुछ प्रमुख मुद्दों का दबाव उन कारणों में से एक है जिसके चलते उन्होंने रक्षा मंत्री का पद छोड़ने और गोवा लौटने का फैसला किया। चौथी बार गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले पर्रिकर ने कहा कि चूंकि दिल्ली उनके कार्यक्षेत्र का हिस्सा नहीं रहा है। वह वहां पर दबाव महसूस करते थे।

Manohar-Parrikar-PTI-L

पर्रिकर ने ये बातें डा. बीआर अंबेडकर की 126वीं जयंती के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा ‘दिल्ली में रक्षा मंत्री के तौर पर काम करने के दौरान कश्मीर जैसे मुद्दे उन कारणों में थे जिसके चलते मैंने गोवा वापस लौटने का फैसला किया।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे जब मौका मिला तो मैंने गोवा वापस आने का निर्णय किया, जब आप केंद्र में होते हैं, आपको कश्मीर और अन्य मुद्दों से निपटना होता है।’

manohar-parrikar_759

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कश्मीर मुद्दे को सुलझाना एक आसान काम नहीं था और इसके लिए एक दीर्घकालिक नीति की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कुछ चीजें हैं जिन पर कम चर्चा की जरूरत है। कश्मीर जैसे मुद्दों पर कम चर्चा और अधिक कार्रवाई की जरूरत है क्योंकि जब आप चर्चा के लिए बैठते हैं तब मुद्दे जटिल हो जाते हैं।

About Kumar Vikash Gaurav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>