Sunday , 20 May 2018
Breaking News

दर्द की दास्तां, ‘मैं कितनी खुशकिस्मत हूं कि मेरा रेप नहीं हुआ’


हमारे आसपास हर दिन हजारों ऐसी घटनाएं घटती है, जिनका शायद ही हमें पता चल पाता है। किसी का पीछा करना जैसी घटना को तो लोग आम समझने लगे है। लेकिन उस लड़की पर क्या गुज़रती है। ये हम नहीं सोचते। हालही में रिलीज हुई एक फिल्म में भी डायलॉग है कि जब तक समस्या निजी ना हो कई आगे नहीं आता। लेकिन इस दर्द को बयां किया है एक इटली की एक 18 साल की लड़की ने।

इस लड़की ने ख़ुद के साथ हुए यौन उत्पीड़न की दास्तां एक फ़ेसबुक पोस्ट में किया है जो वायरल हो रहा है। लड़की ने साफ-साफ शब्दों में लिखा है कि मैं  ख़ुशकिस्मत हैं कि मेरा रेप नहीं हुआ

Screen-Shot-2015-02-16-at-15.47.18
काल्पनिक तस्वीर

18 साल की अनीता फल्लानी लिखती हैं कि जब वह एक रात अपने घर लौट रही थीं, तब एक अनजान शख़्स ने उनसे सवाल पूछने शुरू कर दिए. फल्लानी ने उसे नज़रअंदाज़ किया लेकिन वह उनका पीछा करने लगा. वह लिखती हैं, मुझे आश्चर्य है कि मेरे पास पुरुष जैसी आज़ादी क्यों नहीं है।

फल्लानी टस्कनी नामक शहर के मेयर की बेटी हैं। आगे उन्होंने लिखा कि वह रात में अपने एक दोस्त के साथ घूमने गई थीं जब वह लौटते समय ट्राम का इंतज़ार कर रही थीं तब उस शख़्स ने उन्हें निशाना बनाया. फल्लानी फ़ेसबुक पर लिखती हैं, ‘तुमने मुझे देखा और तुम सोचते हो कि तुम्हें मुझे परेशान करना शुरू कर देना चाहिए. मैंने तुम्हें कभी नहीं देखा. मुझे नहीं मालूम कि तुम कौन हो लेकिन यह तुम्हें नहीं रोकता’

man-shadow-following-woman
काल्पनिक तस्वीर

उस शख़्स ने फल्लानी से कहा, ‘गुड इवनिंग मिस, आप कैसी हैं?, आपका नाम क्या है?, आप जवाब क्यों नहीं देती हैं? फल्लानी ने उन सवालों को नज़रअंदाज़ कर ट्राम ले ली और हेडफ़ोन लगा लिया. उन्होंने सोचा कि वह शख़्स अब उन्हें परेशान नहीं करेगा. लेकिन जब वह ट्राम से उतरीं तो उन्होंने देखा कि वह शख़्स उनका पीछा कर रहा है.

फल्लानी लिखती हैं, ‘मेरा रोने का मन कर रहा था. मैं ख़ुद को अकेला महसूस कर रही थी और समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं।‘ उन्होंने किसी को कॉल करने का नाटक किया लेकिन वह शख़्स उनका पीछा करता रहा और कहां जा रही हो, मेरे साथ आ रही हो जैसे सवाल पूछता रहा. जब वह अपने घर पहुंच गईं तो उन्होंने अपने आप को सुरक्षित महसूस किया लेकिन तब तक उनके अंदर ग़ुस्सा भर चुका था.

man-in-shadow-male-survivor-rape
काल्पनिक तस्वीर

वह कहती हैं, ‘मेरी कहानी बाक़ियों की तरह है. इसमें असाधारण कुछ भी नहीं है, यह एक अपवाद नहीं है, लेकिन कई चीज़ें हैं जो हमारी ज़िंदगी बना देती हैं, ‘मुझे आश्चर्य है कि हम ख़ुशनसीब हैं कि कितनी बार रेप किए जाने से बच जाते हैं.’

इस घटना में यह अभी तक साफ़ नहीं हो पाया है कि प्रशासन इस घटना की जांच कर रहा है या नहीं।

सोशल मीडिया पर दास्तां सुनाते के बाद फल्लानी की स्टोरी को कई जानी मानी वेबसाइट और बड़े अख़बारों ने जगह दी और सोशल मीडिया पर हजारों बार शेयर भी किया। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि आए दिन इस तरह की घटनाएं होती है, पर उसमे से कितनी फल्लानी है जो अपनी दास्तां किसी से भी शेयर नहीं करती।

About Sudhanshu Vishwakarma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>